Blog List

Stress Management Session by Shri Dilip Kumar and Entrepreneurs benefitted by Motivational book अप्प दीपो भव

The pen is very powerful and it is capable of changing society.

We are talking about a writer who is not only serving the Industry department but also motivating youths with his capabilities of writing.

Shri Dilip Kumar is one of the honest and humble background IRTS officers who wrote several books and was Also awarded by Maithalisharan Gupt Award by the Ministry of Railways.

 

Today we are going to discuss a few books written by him. It was a time of fear and negativity during COVID-19 when all of us were scared but he didn't stop and thought of bringing positivity by writing books.

 

Let's have a look at his book "अप्प दीपो भव" which was released in 2021.

In this book, he discusses different life lessons and how one should follow the path of Buddha.

In the first lesson, he talked about " सच्ची साधना और सदगुरु की संगति से मिलता है सच्चा ज्ञान"

This lesson talks about the importance of the Guru, the Right surroundings, and Knowledge.

The second lesson is on "उठ जाग मुसाफिर भौर भयो"

 

In this lesson author is talking about the importance of rising early

The third lesson is on "प्रभु, प्रकृति और पुरखों का करें प्रातः वंदना"

In this lesson, the Author gave importance to God, Mother Nature, and our ancestors.

The fourth lesson is "पेट साफ़ हर रोग दफा"

The fifth lesson is प्रातः काल में ही प्रकृति से जुड़िए।

The author highlighted how to connect early morning and Nature.

 

Likewise below you can find the list of different lessons:

तन सुंदर तो मन सुंदर

आज की प्लानिंग क्या है पार्टनर 

जलपान कैसा, महाराज जैसा 

घर से निकलते ही 

डर के आगे जीत है 

 

There are many more lessons in this book and by reading the life lessons one can change his or her life.

One must buy this book and should invest in their life.

 

Blog by: Rohit Jha

Read More

उद्योग विभाग के विशेष सचिव श्री दिलीप कुमार ने स्ट्रैस मैनेजमेंट पर सेशन को संबोधित किया

आज दिनांक 30/04/22 को बिहार उद्यमी संघ के पटना स्थित मुख्यालय में आयोजन हुआ। इस अवसर बिहार सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ इंडस्ट्रीज के स्पेशल सेक्रेटरी श्री दिलीप कुमार ने युवा उद्यमियों को संबोधित किया और स्ट्रेस मैनेजमेंट के बारे जानकारी दी।

उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा की किस प्रकार आज युवा अपने कैरियर को सफल बनाने के जुनून में लगे हैं और अपने पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ को मैनेज नहीं कर पाते हैं। आवश्यकता है की लोग टाइम मैनेजमेंट के साथ स्ट्रेस को कम कर सकतें है। सही खान पान भी होना जरूरी है 
उन्होंने कुछ सुझाव दिए।

तनाव होने पर हमेशा चीजों को सकारात्मक तरीके से देखने की कोशिश करनी चाहिए । हर दिन छोटी छोटी चीजें करें।

कुछ मामलों में हो सकता है कि आपको फ्रेश स्टार्ट की भी जरूरत पड़े।

हर कार्य में अपना उत्साह बरकरार रखें। उन्होंने कहा आपको सिस्टम बनाने की जरूरत है जो अनुपस्थिति में भी काम करता रहे।

रोजाना किसी भी कार्य को करने पर उसे सर्वश्रेष्ट तरीके से करने का भाव रखे तथा स्वयं की सोच को भी सकारात्मक रखे तो कुछ हद तक आप उत्साहित रहा जा सकता है। 

पर्याप्त नीद व आराम मिलने से हमारा शरीर व मन दोनों स्वस्थ रहते है। समय पर नीद लेने से व्यक्ति की कार्यक्षमता तो बढ़ती ही है साथ ही तनाव में भी कमी लाने में मदद मिलती है। 

अपने मित्रों के साथ अच्छा व्यवहार करे तथा अच्छे लोगों के साथ दोस्ती रखना, तनाव को कम करने या समाप्त करने में सबसे अधिक मददगार हो सकता है।


बिहार उद्यमी संघ के महासचिव श्री अभिषेक सिंह ने बताया की आज का समय प्रतिस्पर्धा का है और इस भाग दौड़ में हम अपना खयाल नहीं रख पाते। आवश्यकता हैं हम खुद को भी समय दें। जो भी करें पूरे उत्साह के साथ करें।

इस अवसर पे श्री दिलीप कुमार द्वारा किताब लिखे गए अप्व दीपों भव और टोक्यो ओलंपिक के खिलाड़ियों की प्रेरक कहानियां पे परिर्चा भी आयोजन किया गया।

नैना कुमारी जो की भागलपुर अधारित विक्रमशिला ग्रामोद्योग का संचालन करती उन्होंने अपने जीवनी को बताया और उनके द्वारा बनाए जा रहे प्रोडक्ट को दिखाया।

इस अवसर पे 50 से ज्यादा उद्यमियों ने भाग लिया और स्ट्रैस मैनेजमेंट के तरीकों को सिखा।

Read More

रेशों से बाज़ार तक जानें कैसे काम करता है टैक्सटाइल उद्योग।

बिहार उद्यमी संघ, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार (Ministry of Electronics and IT, Govt of India) एवं सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय, भारत सरकार (Ministry of MSME, Govt of India) के तत्वाधान में वेबिनार का आयोजन हुआ ।

आज के इस वेबिनार में बिहार के एक मात्र टेक्सटाइल उद्योग छेत्र भागलपुर के जुझारू बुनकरों ने इस क्षेत्र के बारे में काफ़ी विस्तृत जानकारी साझा किया।

 

इस वेबीनार की शुरुआत के डी इंडस्ट्रीज की संस्थापक मोनिका कुमारी ने किया। उन्होंने अपने उद्बोधन में बताया की किस प्रकार वो और उनकी टीम भागलपुर के सिल्क उद्योग को विश्व पटल पे ले जाने का प्रयास कर रही हैं।

 

हाल के दिनों में सिल्क थ्रेड के कमी के कारण इसके आयात से रॉ मैटेरियल का लागत काफ़ी बढ़ा है जिससे कपड़े महंगे हो रहें हैं। उन्होंने कहा की इस उद्यौग में इनोवेशन और नई तकनीक की आवायशकता है।

 

विभा और रिंकी देवी जो की कई वर्षों से इस कार्य को कर रहीं हैं उन्होंने बताया की रेशम और टैक्सटाइल उद्योग ने उन्हें आजीविका चलाने में मदत करता है किंतु इसमें मेहनताना कम है और इसपे ध्यान देने की आवश्यकता है।

 

युवा आर्टिस्ट तारा कुमारी बताती हैं की उन्होंने 7वर्ष की उम्र में ही मधुबनी चित्रकारी सीखना और बनाना शुरू कर दिया था और आज कपड़ो पे इसे बखूबी उखेरती हैं और लोगों को ट्रेनिंग भी देती हैं।

Read More

The Memorandum of Understanding (MoU) between IIM Calcutta Innovation Park and Bihar Entrepreneur Association (BEA)

Bihar Entrepreneurs Association and IIM Calcutta Innovation Park will jointly help enterprises in rural Bihar to expand their business and reach new markets. The incubator program for SHG-based enterprises is being implemented by Bihar Gramin Ajeevika Protsahan Samiti-Jeevika and IIM Calcutta Innovation Park under the National Rural Economic Development Project. The objective of this program is to strengthen women-owned and led enterprises and promote sustainable livelihood opportunities. Bihar Entrepreneur Association (BEA) will assist IIM Calcutta Innovation Park in reaching out to start-ups and entrepreneurs working in 38 districts of the state. Start-up Incubator working with Bihar Entrepreneur Association (BEA). The program will help in providing better markets to the selected entrepreneurs.

IIM Calcutta Innovation Park, under the aegis of IIM Calcutta, is a premier Evolutionary Organization of India Work with the objective of helping enterprises operating in the social sector to promote business. National Rural Economic Development Project Incubateur program is being implemented in the state of Bihar, Assam and West Bengal by National Rural Livelihood Mission and IIM Calcutta Innovation Park. national rural livelihood
The Mission (DAY-NRLM), a flagship livelihood program of the Ministry of Rural Development, Government of India, aims to mobilize about 9-10 crore rural poor households into Self Help Groups (SHGs) in a phased manner and provide them with long-term self-help support. So that they can improve their income and quality of life by diversifying their livelihood.

 

It is expected that the enterprise will increase its annual income by joining this new program.
Will be able to achieve at least 15% growth. This has led to new forms of livelihood at the grassroots level. There is a huge potential to create opportunities. These entrepreneurs will also be shown as role models who will inspire a large number of youth to embrace entrepreneurship and look only for job creators. IIM Calcutta Innovation Park will bring its rich experience in entrepreneurship development to several states at the national level to implement this project. Management practices like design thinking and market distribution model will be used for this project as per international standards. Appropriate technologies will be used for project effectiveness and efficient implementation.
The Memorandum of Understanding (MoU) between Bihar Entrepreneur Association (BEA) and IIM Calcutta Innovation Park will prove to be a milestone in taking the rural women's entrepreneurship to a new dimension in the state of Bihar.

Read More

The Unique Fall of a unicorn : Why did shopclues implode?

Shopclues is an e-company for buying and selling products like clothing, beauty products, accessories, health products, etc. The company was settled in 2011 by Sanjay Sethi, and the co-founder (Sandeep Aggarwal and Radhika Aggarwal). The company was established to provide online service to the buyers and for being settled in online marketing. But after some time the co-founders have left the company because of their personal issues they had left the company means left the participation in the company but was the sharer of the company. And the company has fallen down because of not being given proper guidelines and lost in the competitive market.  

 

 

 

 

Lost in a battleground:

In the competitive market of India today Flipkart and Amazon have reached that level where shopclues has just lost its identity. And the little reason for this also is funding. To survive in this competitive market shopclues has not got that much enough funding to grow Where adding of new customers is expensive and for this continuous funding is necessary. Literally, No one is supportive of this. Financially In the year 2018 Flipkart and Myntra have 36.6% market share While Amazon has 31.2 %. And shopclues has only a 1.6% market share of e-tailing India. This share has also now fallen to less than 0.5%. According to research the e-tailing pie of India has hoped to cross 30 billion dollars. Yet shopclues is not able to increase his share. There are some reasons let’s discuss here.

Reasons why Shopclues couldn’t maintain or grow its share?

There are many reasons why shopclues couldn’t maintain or grow its share. Here are some of them;

  • In the competitive market, shopclues have lost their identity because The motive of shopclues is only to make a profit. When it started in 2011 it was ahead in the marketplace model. Flipkart and Snapdeal were yet to become a marketplace; Amazon has not launched yet. But after the years every e-companies got a marketplace and shopclues has fallen down. shopclues has not taken care of what customers wanted ..they evolved on their own. In the previous five years, every company has maintained their growth but shopclues did not. The buyers also increased during that time they mostly want to do online shopping with an experience. and shopclues is not able to impress customers. While other e-companies have reached out to buyers with a better service.   
  • The second reason could be the decrement of value proposition like shopclues is not able to explain to the customers that why should they buy that product, what is the benefits or side-effects of the products and lost his value proposition. other e-companies like Amazon who mainly focused on electronic items, books, and standard items while shopclues has focused on clothing, beauty, accessories, health, etc ….After a few years shopclues has also started selling electronic products like mobile phones but not able to convince customers. little losses were managed in 2018 but yet sales remained small as compared to other e-companies.
  • The third could be shopclues is not able to manage more funds and In this battle of being in the market funding is a very necessary component and shopclues is unable to manage enough funds. Adding new buyers is expensive and needs continuous funding. But like Amazon and Myntra many little players are also there in the market and small players have to face difficulties to manage funds. According to the data, Flipkart has managed almost 8 billion dollar funds, Snapdeal was able to manage 1.8 billion dollar.
  • The fourth reason could be the funder of the company. For the continuous growth of the company, there should be continuous participation of funder in this competitive market. The founder of shopclues is Sandeep Aggarwal has left the company in 2014 he was the sharer of the company but left his participation in the company which leads to the fallen down of the company.

:-       I Nidhi Kumari also have experience of shopping from shopclues which left me for giving a very bad review. Actually, I have ordered jeans of a specific brand but shopclues has delivered me the product of some other brand and the delivery process was also very disturbed. For this rude behavior of shopclues I haven’t shopped anything from shopclues till now.

Conclusion:

If you are going to run a company you should have taken proper care of the needs that customers wanted. you must have that capability to convince buyers to buy that product. These days everything is digitalized so e-companies have a very good chance of being settled in online marketing and convincing customers by guiding them to the right products according to their needs and making their identity in the market. And shoclues is unable to provide all these and fallen down and lost his identity as a bad e-company in the market.

 

Blog By 

Rohit Jha

Nidhi kumari.

 

 

 

Read More

बिना इनक्यूबेशन से जुड़े न शुरू करें स्टार्टअप, छोटी रकम भी डूबी तो टूट जाता है हौसला

बिना इन्क्यूबेशन सेंटर के न करें स्टार्टअप, छोटी रकम भी डूबी तो टूट जाएगा हौसला

 

जिस परिवेश में हम बड़े हुए हैं, वो परिवेश हमें पूरी तरह नौकरियां पाने की दौड़ में सबसे आगे रहने के लिए प्रेरित करता है। यह प्रेरणा सही दिशा में चली तो सबकुछ ठीक रहता है लेकिन कई बार यह प्रेरणा अतिरिक्त दबाव भी बन जाती है। लेकिन इन सामाजिक प्रेरणा और दबाव के अलावा तीसरी लाइन की गुंजाइश नहीं रहती। बिजनेस वाला माइंडसेट तो अधिकतर घरों में बनने से पहले टूट जाता है या तोड़ दिया जाता है। लेकिन जब नौकरियां कम हो रही हैं या मनमुताबिक काम करने की आजादी छीन रही है तो स्वरोजगार ऐसा सिस्टम बनाता है जिसमें काम करने की आजादी और सफलता दोनों मिल सकती है। हालांकि जितने फायदे स्वरोजगार के गिनाए जाते हैं, इसके जोखिम भी उतने ही छुपे हुए हैं। इसलिए जरूरी है कि जब तैयारी पूरी हो तभी स्वरोजगार की दिशा में आगे बढ़ें।

 

सबसे पहले यह समझ लेना होगा कि स्वरोजगार करते हुए ही हम सब सीख सकते हैं, यह दिमाग से निकाल देना होगा। स्वरोजगार की दिशा में आगे बढ़ने से पहले प्रॉपर ट्रेनिंग जरूरी है। ट्रेनिंग सही नहीं हुई तो सफलता का जोखिम कई गुना बढ़ जाता है। यह ट्रेनिंग आज के वक्त में इतनी भी मुश्किल नहीं है क्योंकि तमाम संस्थान हैं जहां से दो से चार महीने की बेसिक ट्रेनिंग कर सकते हैं। बिहार में ऐसे दर्जन भर संस्थान हैं लेकिन इन संस्थानों को चुनते वक्त आपको मेंटर्स की गुणवत्ता का ख्याल रखना होगा। गुणवत्ता का मतलब डिग्री से नहीं है। एक मेंटर आपको एकेडमिक ट्रेनिंग करता है तो दूसरा इंडस्ट्री के हिसाब से। एकेडमिक ट्रेनिंग कर आप नौकरी कर सकते हैं लेकिन स्वरोजगार के लिए इंडस्ट्री के हिसाब से ट्रेनिंग जरूरी है। इंडस्ट्री लिंक्ड मेंटर्स का फायदा ये होगा कि वो आपके स्वरोजगार के मॉडल की खूबियां, खामियां, चुनौतियां, प्रतिस्पर्धा सबकुछ आपको बता सकता है। 

 

सही मेंटर्स से बेसिक ट्रेनिंग पूरी करने के बाद जरूरी है कि आप अपने रोजगार के मॉडल का मार्केट रिसर्च पूरा करें। इसमें जरूरी है कि प्रोडक्ट की जरूरत लोगों को है या नहीं। इसके साथ जो पोटेंशियल कस्टमर हो सकते हैं, उनकी खर्च करने की क्षमता आपके प्रोडक्ट के अनुरुप है या नहीं। इसके अलावा लोकेशन का चयन भी महत्वपूर्ण है जो आपके प्रोडक्ट को सही मार्केट उपलब्ध करा सकता है। यह सबकुछ आसान हो सकता है जब आप किसी बेहतर इन्क्यूबेशन सेंटर में इंडस्ट्री लिंक्ड मेंटर्स के साथ काम करें। बिना इन्क्यूबेशन सेंटर के अगर आप स्वरोजगार की दिशा में आगे बढ़ेंगे तो जोखिम कई गुना अधिक होगा और एक बार आपकी छोटी पूंजी भी डूबी तो आगे के लिए आपका हौसला टूट जाएगा। इससे बेहतर है कि अपने जोखिम को कम करने के लिए बेहतर इन्क्यूबेशन सेंटर और इंडस्ट्री लिंक्ड मेंटर्स के साथ काम करें। एक बार आपका स्टार्टअप मार्केट में निकल जाता है तो भी कम से कम तीन साल अपने मेंटर्स के साथ जुड़े रहें क्योंकि जो अनुभव आप नुकसान उठा कर सीखेंगे, हो सकता है कि आपके मेंटर्स उन खतरों से आपको पहले ही आगाह कर सकें।

 

आज न मेंटरशिप की दिक्कत है और न ही योजनाओं की। अलग अलग इन्क्यूबेशन सेंटर्स हैं जहां आप अपने स्तर पर मुलाकात कर उनका चयन कर सकते हैं। बिहार उद्यमी संघ का इन्क्यूबेशन सेंटर इंटरप्राइजिंग जोन तो मुफ्त में मेंटरशिप उपलब्ध कराता है, कुछ सेंटर्स में यह मुफ्त नहीं है। इसका चयन स्टार्टअप शुरू करने वालों को खुद से रिसर्च कर करना चाहिए। सरकारी और निजी इन्वेस्टर्स की भी कमी नहीं है। अलग अलग स्तर पर अलग अलग फंड उपलब्ध हो सकते हैं, बशर्ते आपकी ट्रेनिंग सही तरीके से हुई हो और आपका प्रोजेक्ट सही तरीके से बना हो। फंडिंग के लिए प्रपोजल आपको बनाना है, जिसमें इन्क्यूबेशन सेंटर्स आपको मदद करता है। साथ ही तकनीक के बारे में भी समझना जरूरी है। अगर मैन्युफैक्चरिंग में जाना है तो प्लांट मशीनरी में लेटेस्ट क्या है, यह समझना जरूरी है। जबकि सर्विस सेक्टर में बढ़ना है तो लेटेस्ट सॉफ्टवेयर की जानकारी होना जरूरी है। स्टार्टअप शुरू करने के लिए फंड इन स्कीम्स के जरिए मिल सकता है।

 

* स्टार्टअप बिहार : बिहार सरकार की इस योजना में 10 लाख रुपए तक का सीड फंड मिलता है, जो 10 सालों तक इंटरेस्ट फ्री लोन है। इसके लिए आइडिया के साथ पूरा बिजनेस प्लान भेजना होता है। प्लान के चयन के बाद इन्क्यूबेशन सेंटर भेजा जाता है और उसके बाद सेंटर के रिकमेंडेशन के आधार पर सीड फंड जारी होता है। 

* एससी-एसटी उद्यमी योजना : इसमें भी 10 लाख रुपए का फंड एससी-एसटी कैटेगरी के उद्यमियों को बिहार सरकार की देती है। इसमें पांच लाख रुपए तो अनुदान होता है जबकि शेष पांच लाख रुपए 10 साल के लिए इंटरेस्ट फ्री होता है।

* महिला उद्यमी योजना : इस योजना में भी बिहार सरकार 10 लाख रुपए का फंड सिर्फ महिला उद्यमियों को देती है जिसमें पांच लाख रुपए अनुदान होता है और शेष पांच लाख रुपए एक प्रतिशत इंटरेस्ट पर दिया जाता है।

* केंद्रीय योजनाएं : भारत सरकार के मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक एंड आईटी द्वारा बिहार में इंटरप्राइजिंग जोन को चार स्टार्टअप का चयन किया जाता है। इसमें वैसे स्टार्टअप शामिल होते हैं जो तकनीकी महारत वाले होते हैं। 

* मुद्रा योजना : स्वरोजगार के लिए इस योजना के तहत 50 हजार से 10 लाख रुपए तक का फंड मिल सकता है।

* सीजीटीएसएमई : क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट फॉर माइक्रो एंड स्मॉल इंटरप्राइजेज स्कीम के तहत दो करोड़ रुपए का फंड मिल सकता है। यह फंड ज्यादातर मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के लिए जारी किया जाता है।

* एमएसएमई स्कीम्स : इसके तहत स्फूर्ति योजना में तीन करोड़ रुपए तक और क्लस्टर योजना में 20 करोड़ रुपए तक का फंड मिल सकता है।

Read More

Technology required for StartUps to have a Lead

The world has gone when any Idea with general use of technologies would have worked. The world need startups who can change the way life being lived, who bring the right  mixture of different technologies and innovation to provide solutions to many problems and inefficieny in the living. 

Read More